मां दुर्गा के नौ रूपों के नाम फोटो और 9 देवी की सम्पूर्ण जानकारी

मां दुर्गा के नौ रूपों के नाम फोटो और 9 देवी की सम्पूर्ण जानकारी

इस लेख के माध्यम से हमारे सभी पाठकों को मां दुर्गा के नौ रूपों के नाम फोटो और 9 देवी के बीज मंत्र, प्रार्थना, स्तुति श्लोक,और नवरात्री के दिन, और रंग की सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त होगी।

इस लेख में आपको माँ दुर्गा के नौ रूपों के नाम व उनसे जुडी सभी जानकारी मिलने वाली है।माँ दुर्गा, माँ पार्वती के कई रूपों में से एक है। और माँ के दुर्गा रूप के 9 स्वरूपों की पूजा नवरात्रि के नौ दिनों (नवदुर्गा की नौ दिव्य रातों) के लिए की जाती है, जिन्हें नवदुर्गा अथवा नवरात्रि भी कहा जाता है। यह लेख माँ दुर्गा के सभी नौ रूपों के बारे में है। मुझे उम्मीद है कि यह लेख आपको नवरात्रि की 9 देवियों के बारे में पूरी जानकारी देगा।

Read this article in English on 9 Nine forms of Maa Durga.

माँ दुर्गा के नौ रूपों के नाम

  • देवी शैलपुत्री माँ
  • देवी ब्रह्मचारिणी माँ
  • देवी चंद्रघंटा माँ
  • देवी कुष्माँडा माँ
  • देवी स्कंदमाता माँ
  • देवी कात्यायनी माँ
  • देवी कालरात्रि माँ
  • देवी महागौरी माँ
  • देवी सिद्धिदात्री माँ

मां दुर्गा के नौ रूप और उनकी सम्पूर्ण जानकारी

माता पार्वती शक्ति या दुर्गा का आदि रूप हैं। नवरात्रि के पवित्र नौ दिनों के दौरान, उनके नौ रूपों शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्माँडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री की घरों और मंदिरों में पूजा की जाती है। यहां हम आपके साथ 9 देवी के नामों की सूची साझा कर रहे हैं जिन्हें संस्कृत के एक श्लोक से पहचाना जा सकता है। आप नवदुर्गा का आशीर्वाद पाने के लिए इस नारे का जाप और सीख सकते हैं।

प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी। तृतीयं चन्द्रघंटेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम् ।। पंचमं स्क्न्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च। सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम् । नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः ।।

देवी भागवत पुराण के अनुसार, माता पार्वती अन्य सभी देवी-देवताओं की पूर्वज हैं। उन्हें कई रूपों और नामों वाली एक शक्ति के रूप में पूजा जाता है। उसका रूप या अवतार उसकी मनोदशा पर निर्भर करता है। जैसा की में बता चूका हूँ, माँ दुर्गा, माँ पार्वती का ही दूसरा रूप हैं। दुर्गा माता पार्वती का एक राक्षस से लड़ने वाला रूप है, और कुछ ग्रंथों से पता चलता है कि माता पार्वती ने राक्षस दुर्गामासुर को मारने के लिए दुर्गा का रूप धारण किया था। इस प्रकार माता दुर्गा की नौ रूपों में पूजा की गई है जिन्हें नवदुर्गा कहा जाता है।

हम अपने पाठको के लिए नवरात्री शुभकामनाऐं सन्देश लेख प्रकाशित किया है।

मां दुर्गा के नौ रूपों के नाम फोटो और 9 देवी के बीज मंत्र, प्रार्थना, स्तुति श्लोक, दिन, और रंग की जानकारी

इस लेख में, हम मां दुर्गा के नौ रूपों के नाम फोटो और 9 देवी के बीज मंत्र, प्रार्थना, स्तुति श्लोक, दिन, और रंग की जानकारी के साथ नवरात्रि के दिनों, नवरात्रि देवी के नाम, देवी पूजा मंत्र, उनके बीज मंत्र, प्रार्थना श्लोक, स्तुति श्लोक और नवरात्रि के दिनों के अनुसार वस्त्रों के रंगों के बारे में सभी विवरणों के साथ नव दुर्गा के सभी नौ रूपों को बताएंगे।

नवरात्रि दिन 1 – देवी शैलपुत्री माँ

माँ शैलपुत्री को माँ दुर्गा या माता पार्वती का पहला रूप माना जाता है और नवरात्रि के पहले दिन उनकी पूजा की जाती है। यह रूप माता पार्वती के बचपन की अवस्था का प्रतिनिधित्व करता है। उनका यह कन्या स्वरुप है, जो एक परिवार में उसके माता-पिता को खुश, हर्षित और गौरवान्वित करता है।

नाम का अर्थ: उसके नाम का अर्थ “शैल – पर्वत (पहाड़)” + “पुत्री – की बेटी” है। वह पर्वत राज, भगवान हिमवान और रानी मेनावती की बेटी हैं। इसलिए उन्हें यह शैलपुत्री नाम मिला।

शिव पुराण और देवी-भागवतम पुराण जैसे पुराने शास्त्रों के अनुसार, माता पार्वती ने अपने पिछले जन्म में राजा दक्ष की बेटी के रूप में जन्म लिया था। और खुद को सती के रूप में त्यागने के बाद, उन्होंने माता पार्वती का जन्म लिया। अपने पिछले जन्म की तरह ही इस जन्म में भी माँ शैलपुत्री ने भगवान शिव से विवाह किया।

माँ का रूप: देवी शैलपुत्री (पार्वती) को दो हाथों से चित्रित किया गया है, और उनके माथे पर एक अर्धचंद्र है। उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का फूल है। वह एक बैल पर सवार है उसका नाम नंदी है।

दिन 1 | घटस्थपना, प्रतिपदा | देवी शैलपुत्री | नवरात्रि रंग | पहनने के लिए रंग:

पीला रंग देवी शैलपुत्री के सम्मान में नवरात्रि के पहले दिन या प्रतिपदा को समर्पित है। यह खुशी और चमक का प्रतिनिधित्व करता है।

शैलपुत्री माँ पूजा मंत्र

॥ ॐ देवी शैलपुत्र्यै नमः।॥

शैलपुत्री माँ बीज मंत्र

॥ ॐ ऐं ह्रीं क्लीं शैलपुत्र्यै नम:।॥

शैलपुत्री माँ प्रार्थना मंत्र

वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्। वृषारूढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्॥

शैलपुत्री माँ स्तुति मंत्र

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ शैलपुत्री रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

नवरात्रि दिन 2 – देवी ब्रह्मचारिणी माँ

माँ ब्रह्मचारिणी दुर्गा माँ का दूसरा रूप हैं। नवरात्रि (नवदुर्गा की नौ दिव्य रातें) पर्व के दूसरे दिन माँ दुर्गा के इस रूप की पूजा की जाती है। दुर्गा माँ के इस रूप को उनके तप का प्रतीक माना जाता है। इस दिन भक्त अपना मन माँ ब्रह्मचारिणी के चरणों में केंद्रित करते हैं।

नाम का अर्थ: ब्रह्मा का अर्थ है तपस्या और चारिणी का अर्थ है आचरण (धारण करना) करने वाला। इस प्रकार ब्रह्मचारिणी का अर्थ है “तप करने वाली”।

माँ दुर्गा का दूसरा रूप भक्तों और सिद्धों को शाश्वत फल देने वाली है। इनकी पूजा करने से तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम की वृद्धि होती है। जीवन के कठिन संघर्षों में भी मन कर्तव्य पथ से विचलित नहीं होता। माँ ब्रह्मचारिणी की कृपा से हर जगह सफलता और जीत मिलती है।

माँ का रूप: भविष्य पुराण के अनुसार, देवी ब्रह्मचारिणी सफेद वस्त्र धारण करती हैं और उनके दाहिने हाथ में जप की माला और बाएं हाथ में कमंडल है।

दिन 2 | द्वितीया| देवी ब्रह्मचारिणी | नवरात्रि रंग | पहनने के लिए रंग:

हरा रंग देवी कात्यायनी को सम्मानित करने के लिए नवरात्रि के दूसरे दिन या द्वितीया को समर्पित है। यह आध्यात्मिक ज्ञान, विकास, प्रजनन क्षमता, शांति और शांति का प्रतिनिधित्व करता है।

ब्रह्मचारिणी माँ पूजा मंत्र

॥ ॐ देवी ब्रह्मचारिण्यै नमः।॥

ब्रह्मचारिणी माँ बीज मंत्र

॥ ॐ ऐं ह्रीं क्लीं ब्रह्मचारिण्यै नमः।॥

ब्रह्मचारिणी माँ प्रार्थना मंत्र

दधाना कर पद्माभ्यामक्षमाला कमण्डलू। देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा॥

ब्रह्मचारिणी माँ स्तुति मंत्र

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

नवरात्रि की सम्पूर्ण जानकारी इंग्लिश में

नवरात्रि दिन 3 – देवी चंद्रघंटा माँ

माँ चंद्रघंटा, माँ दुर्गा की तीसरी शक्ति का रूप है। नवरात्रि के तीसरे दिन इनकी पूजा की जाती है। इनकी पूजा हमेशा फलदायी होती है। देवी चंद्रघंटा की कृपा से साधक या भक्तों के सभी पाप और बाधाएं नष्ट हो जाती हैं। माँ भक्तों के कष्टों का शीघ्र निवारण करती हैं और उनका उपासक सिंह के समान पराक्रमी और निडर हो जाता है।

नाम का अर्थ: उसने भगवान शिव से विवाह किया और उसके माथे पर एक घंटे के आकार का अर्धचंद्र है, इसलिए उसे चंद्रघंटा देवी कहा जाता है।

माँ का रूप: देवी चंद्रघंटा को दस हाथों से दर्शाया गया है। उन्होंने अपने हाथो में क्रमशः त्रिशूल, गदा, खड़क (तलवार), कमल (कमल का फूल), धनुष, तीर, घंटा, और कमंडल धारण कर रखे है। और उनका एक हाथ आशीर्वाद मुद्रा या अभयमुद्रा में रहता है। वह अपने वाहन के रूप में एक बाघ या शेर पर सवार होती है, जो बहादुरी और साहस का प्रतिनिधित्व करती है।

दिन 3 | तृतीया या थीज | देवी चंद्रघंटा | नवरात्रि रंग | पहनने के लिए रंग:

धूसर (ग्रे) रंग देवी चंद्रघंटा के लिए नवरात्रि के तीसरे दिन को समर्पित है। यह जीवन में संतुलन और परिवर्तन की ताकत का प्रतिनिधित्व करता है।

चंद्रघंटा माँ पूजा मंत्र

॥ ॐ देवी चन्द्रघण्टायै नमः।॥

चंद्रघंटा माँ बीज मंत्र

॥ ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चन्द्रघंटायै नम:।॥

चंद्रघंटा माँ प्रार्थना मंत्र

पिण्डज प्रवरारूढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता। प्रसादं तनुते मह्यम् चन्द्रघण्टेति विश्रुता॥

चंद्रघंटा माँ स्तुति मंत्र

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ चन्द्रघण्टा रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

नवरात्रि दिन 4 – देवी कुष्माँडा माँ

नवरात्रि के चौथे दिन माँ दुर्गा के चौथे स्वरूप माँ कुष्माँडा की पूजा की जाती है। माँ कुष्माँडा की पूजा करने से भक्तों के सभी रोग और दुख दूर हो जाते हैं। इनकी भक्ति से जीवन में यश, बल और स्वास्थ्य में वृद्धि होती है।

नाम का अर्थ: ऐसा माना जाता है कि देवी कुष्माँडा ने पूरे ब्रह्माँड की रचना की। उन्हें सफेद कद्दू (कूष्माँडा) का प्रसाद भी पसंद है। इसलिए ब्रह्माँड और कुष्माँडा के साथ जुड़ाव के कारण उन्हें देवी कुष्माँडा के रूप में जाना जाता है।

माँ का रूप: देवी कुष्माँडा की आठ भुजाएं हैं। इसलिए उन्हें अष्टभुजा देवी के नाम से भी जाना जाता है। उनके सात हाथों में क्रमशः कमंडल (पानी का बर्तन), धनुष, तीर, कमल (कमल-फूल), अमृत कलश (अमृत से भरा कलश), चक्र और गदा हैं। आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और आशीर्वाद देने वाली माला है। उनका वाहन शेर है।

दिन 4 | चतुर्थी | देवी कुष्माँडा | नवरात्रि रंग | पहनने के लिए रंग:

नारंगी रंग माँ कुष्माँडा के सम्मान में चौथे दिन या चतुर्थी को समर्पित है। यह उत्साह, सफलता और खुशी का प्रतिनिधित्व करता है।

कुष्माँडा माँ पूजा मंत्र

॥ ॐ देवी कूष्माण्डायै नमः।॥

कुष्माँडा माँ बीज मंत्र

॥ ॐ ऐं ह्रीं क्लीं कूष्माँडायै नम:।॥

कुष्माँडा माँ प्रार्थना मंत्र

सुरासम्पूर्ण कलशं रुधिराप्लुतमेव च। दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे॥

कुष्माँडा माँ स्तुति मंत्र Kushmanda Maa Stuti Mantra

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कूष्माण्डा रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥ Ya Devee Sarvabhoo‍Teshu Maan Kooshmaanda Roopen Sansthita.। Namastasyai Namastasyai Namastasyai Namo Namah॥

नवरात्रि दिन 5 – देवी स्कंदमाता माँ

नवरात्रि का पांचवां दिन माँ दुर्गा के पांचवें स्वरूप देवी स्कंदमाता की पूजा का दिन है। मोक्ष के द्वार खोलने वाली माँ स्कंदमाता परम सुखदायी हैं। माँ अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं।

नाम का अर्थ: स्कंदमाता का अर्थ “स्कंद” + “माता” है। जिसका अर्थ है, स्कंद की माँ। भगवान स्कंद को ‘भगवान कार्तिकेय’ के नाम से भी जाना जाता है। भगवान स्कंद की माता होने के कारण देवी दुर्गा के इस रूप को स्कंदमाता के नाम से जाना जाता है।

माँ का रूप: देवी स्कंदमाता को चार भुजाओं के साथ चित्रित किया गया है। उसके दाएं और बाएं दोनों हाथ जो ऊपर की ओर उठे हुए हैं, उनमें कमल का फूल है। और एक बायां हाथ वर मुद्रा में है। उनकी गोद में, उनके प्रिय पुत्र भगवान स्कंद या भगवान कार्तिकेय उनके बाल रूप में विराजमान हैं। देवी स्कंदमाता का वाहन सिंह (बब्बर शेर) है।

दिन 5 | पंचमी | देवी स्कंदमाता | नवरात्रि रंग | पहनने के लिए रंग:

सफेद रंग देवी स्कंदमाता के लिए नवरात्रि के 5वें दिन या पंचमी को समर्पित है। यह शांति और पवित्रता का प्रतीक है।

स्कंदमाता माँ पूजा मंत्र

॥ ॐ देवी स्कन्दमातायै नमः।॥

स्कंदमाता माँ बीज मंत्र

॥ ॐ ऐं ह्रीं क्लीं स्कंदमातायै नम:।॥

स्कंदमाता माँ प्रार्थना मंत्र

सिंहासनगता नित्यं पद्माञ्चित करद्वया। शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी॥

स्कंदमाता माँ स्तुति मंत्र

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ स्कन्दमाता रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

नवरात्रि दिन 6 – देवी कात्यायनी माँ

देवी कात्यायनी माँ दुर्गा का छठा अवतार हैं। चूंकि यह नवदुर्गा या माँ दुर्गा के नौ रूपों में उनका छठा रूप है, इसलिए नवरात्रि के दौरान छठे दिन या षष्ठी को उनकी पूजा की जाती है।

नाम का अर्थ: देवी कात्यायनी शक्ति या माँ दुर्गा का उग्र रूप हैं जिन्हें एक योद्धा देवी के रूप में भी जाना जाता है। वह अत्याचारी राक्षस महिषासुर का वध करने वाली है। इसलिए इन्हें महिषासुर मर्दिनी भी कहा जाता है।

माँ का रूप: उनके रूप को अलग-अलग तरीकों से दर्शाया गया है। माँ कात्यायनी का रूप अत्यंत तेजस्वी और शक्तिशाली है। उसकी चार भुजाएँ हैं। उसका ऊपरी दाहिना हाथ अभयमुद्रा में है और निचला हाथ वर-मुद्रा में है। ऊपरी बाएं हाथ में तलवार और निचले बाएं हाथ में कमल का फूल। उसका वाहन भी एक शेर (बब्बर शेर) है।

दिन 6 | षष्ठी | देवी कात्यायनी | नवरात्रि रंग | पहनने के लिए रंग:

लाल रंग देवी कात्यायनी को सम्मानित करने के लिए नवरात्रि के छठे दिन या षष्ठी को समर्पित है। यह शक्ति, शक्ति और साहस का प्रतीक है।

कात्यायनी माँ पूजा मंत्र

॥ ॐ देवी कात्यायन्यै नमः।॥

कात्यायनी माँ बीज मंत्र

॥ ॐ ऐं ह्रीं क्लीं कात्यायनायै नम:।॥

कात्यायनी माँ प्रार्थना मंत्र

चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहना। कात्यायनी शुभं दद्याद् देवी दानवघातिनी॥

कात्यायनी माँ स्तुति मंत्र

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कात्यायनी रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

नवरात्रि दिन 7 – देवी कालरात्रि माँ

कालरात्रि माँ दुर्गा के नौ रूपों में उनका सातवाँ रूप है, जिसे काली माँ के नाम से भी जाना जाता है। इसलिए नवरात्रि के सातवें दिन इनकी पूजा की जाती है। कालरात्रि को शुभंकरी के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि यह विश्वास है कि वह हमेशा अपने भक्तों को शुभ फल प्रदान करती है।

ऐसा माना जाता है कि देवी का यह रूप उन सभी राक्षसों, भूतों, प्रेत, पिशाच और नकारात्मक ऊर्जाओं को नष्ट कर देता है, जो उनके आगमन से भाग जाते हैं। उन्हें सबसे पहले दुर्गा सप्तशती में संदर्भित किया गया है, जो देवी दुर्गा पर सबसे पहला ज्ञात साहित्य है।

माँ दुर्गा के कालरात्रि रूप को देवी माँ के कई विनाशकारी रूपों में से एक माना जाता है। जिसमें काली, महाकाली, भद्रकाली, भैरवी, चामुंडा, चंडी, मृत्यु, रुद्रानी और दुर्गा शामिल हैं। रौद्री और धूमोरना देवी कालरात्रि के अन्य कम ज्ञात नाम हैं।

माँ का रूप: माँ कालरात्रि की त्वचा का रंग गहरे अँधेरे के समान काला है। सिर पर बाल बिखरे हुए हैं। गले में बिजली की तरह चमकती हुई माला है। उन्हें तीन आँखों से चित्रित किया गया है। ये तीनों आंखें ब्रह्माँड की तरह गोल हैं। इनसे बिजली जैसी तेज किरणें निकलती रहती हैं।

दिन 7 | सप्तमी | देवी कालरात्रि | नवरात्रि रंग | पहनने के लिए रंग:

गहरा नीला रंग देवी कालरात्रि को सम्मानित करने के लिए नवरात्रि के 7 वें दिन या सप्तमी को समर्पित है। यह अच्छे स्वास्थ्य और धन का प्रतीक है।

कालरात्रि माँ पूजा मंत्र

॥ ॐ देवी कालरात्र्यै नमः।॥

कालरात्रि माँ बीज मंत्र

॥ ॐ ऐं ह्रीं क्लीं कालरात्र्यै नम:।॥

कालरात्रि माँ प्रार्थना मंत्र

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता। लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्त शरीरिणी॥ वामपादोल्लसल्लोह लताकण्टकभूषणा। वर्धन मूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयङ्करी॥

कालरात्रि माँ स्तुति मंत्र Kaalratri Maa Stuti Mantra

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कालरात्रि रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥ Ya Devee Sarvabhoo‍Teshu Maan Kaalaraatri Roopen Sansthita। Namastasyai Namastasyai Namastasyai Namo Namah.॥

नवरात्रि दिन 8 – देवी महागौरी माँ

देवी महागौरी माँ दुर्गा का आठवाँ स्वरुप या अवतार हैं। उनके इस रूप की पूजा नवरात्रि के आठवें दिन की जाती है। नवरात्रि के इस दिन को दुर्गा अष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। दुर्गा अष्टमी “दुर्गा पूजा” का बंगाली संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

प्राचीन ग्रंथ के अनुसार देवी महागौरी माँ अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करने वाली शक्ति है। जो व्यक्ति महागौरी माँ की पूजा करता है, उसे जीवन के सभी कष्टों से मुक्ति मिल जाती है।

नाम का अर्थ: महागौरी नाम का अर्थ है, “महा = अधिक, महान” और “गौरी = उज्ज्वल, स्वच्छ” अर्थात अत्यंत उज्ज्वल, स्पष्ट रंग, चंद्रमा की तरह चमकता हुआ।

माँ का रूप: देवी महागौरी को चार भुजाओं के साथ चित्रित किया गया है। उन्हें सफेद वस्त्रो में दर्शाया गया है। वह ऊपरी दाहिना हाथ को अभय मुद्रा में और निचले दाहिने हाथ में त्रिशूल रखती है। ऊपरी बाएं हाथ में एक डमरू और निचले बाएं हाथ को वर-मुद्रा (आशीर्वाद मुद्रा) में रखती है। वह एक सफेद बैल (वृषभ) की सवारी करती है।

दिन 8 | दुर्गा अष्टमी | देवी महागौरी | नवरात्रि रंग | पहनने के लिए रंग:

गुलाबी रंग देवी महागौरी के सम्मान में नवरात्रि के 8वें दिन या दुर्गा अष्टमी को समर्पित है। यह रंग आशा, स्नेह, सद्भाव और आंतरिक शांति का प्रतीक है।

महागौरी माँ पूजा मंत्र

॥ ॐ देवी महागौर्यै नमः।॥

महागौरी माँ बीज मंत्र

॥ ॐ ऐं ह्रीं क्लीं महागौर्ये नम:।॥

महागौरी माँ प्रार्थना मंत्र

श्वेते वृषेसमारूढा श्वेताम्बरधरा शुचिः। महागौरी शुभं दद्यान्महादेव प्रमोददा॥

महागौरी माँ स्तुति मंत्र

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ महागौरी रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

नवरात्रि दिन 9 – देवी सिद्धिदात्री माँ

देवी सिद्धिदात्री माँ दुर्गा का नौवां स्वरूप हैं। इसलिए नवरात्रि के नौवें दिन उनकी पूजा की जाती है। वह अपने भक्तों की सभी दिव्य आकांक्षाओं को पूरा करती हैं। माँ सिद्धिदात्री के पास आठ अलौकिक शक्तियाँ या सिद्धियाँ हैं। जो क्रमशः अनिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकम्ब्य, इशितवा और वशित्व है।

नाम का अर्थ: देवी सिद्धिदात्री के नाम का अर्थ इस प्रकार है: सिद्धि का अर्थ है “अलौकिक शक्ति या ध्यान करने की क्षमता” और धात्री का अर्थ है “सम्मान देने वाला”।

ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव के शरीर का एक हिस्सा देवी सिद्धिदात्री का है। इसलिए उन्हें अर्धनारीश्वर के नाम से भी जाना जाता है। वैदिक शास्त्रों के अनुसार, भगवान शिव ने इस देवी की पूजा करके सभी सिद्धियों को प्राप्त किया था।

माँ का रूप: देवी सिद्धिदात्री माता पार्वती का मूल स्वरूप हैं। उनको चार हाथो के साथ दर्शाया गया हैं। जिनमे क्रमशः उन्होंने एक चक्र, शंख, गदा और कमल धारण किया हैं। वह पूर्ण खिले हुए कमल या सिंह पर विराजमान है।

दिन 9 | नवमी या राम नवमी | देवी सिद्धिदात्री | नवरात्रि रंग | पहनने के लिए रंग:

बैंगनी रंग देवी सिद्धिदात्री के लिए नवरात्रि के 9वें दिन या नवमी को समर्पित है। यह बुद्धि और महत्वाकांक्षा की शक्ति का प्रतीक है।

सिद्धिदात्री माँ पूजा मंत्र Siddhidhatri Maa Puja Mantra

॥ ॐ देवी सिद्धिदात्र्यै नमः।॥ ॥ Om Devi Siddhidaatryai Namah: ॥

सिद्धिदात्री माँ बीज मंत्र Siddhidhatri Maa Beej Mantra

॥ ॐ ऐं ह्रीं क्लीं सिद्धिदात्यै नम:।॥ ॥ Om Ain Hrin Klin Siddhidatri Namah:॥

सिद्धिदात्री माँ प्रार्थना मंत्र Siddhidhatri Maa Prathna Mantra

सिद्ध गन्धर्व यक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी॥ Siddh Gandharv Yakshaadyairasurairamarairapi.। Sevyamaana Sada Bhooyaat Siddhida Siddhidaayinee.॥

सिद्धिदात्री माँ स्तुति मंत्र Siddhidhatri Maa Stuti Mantra

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ सिद्धिदात्री रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

सभी पाठको से निवेदन है। यदि इस लेख में कोई त्रुटि, कमी या गलती आपको मिले। तो कृपा मुझे कमेंट बॉक्स में लिखे। आप सभी का इस आर्टिकल को पड़ने के लिए धन्यवाद।

अस्वीकरण Disclaimer: इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों और इंटरनेट पर उपलब्ध जानकारी से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य केवल सूचना पहुंचाना है। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। अधिक जानकारी के लिए आप हमारा अस्वीकरण Disclaimer पढ़े और अपने सुझाव हमें संपर्क Contact पर लिखे।

मेरे शब्द: मैं आशा करता हूँ, आपको यह लेख पसंद आया होगा। इस लेख को अपने मित्रो और परिवार के सदस्यों के साथ साझा कर मुझे प्रोत्साहित करे। आपको इस लेख में कोई त्रुटि, कमी या गलती आपको मिले तो कृपा कर कमेंट करके मुझे सूचित करे। मेरे ब्लॉग पर आने और इस लेख को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।