भगवान हनुमान जी का बजरंग बाण पाठ हिंदी में, बजरंग बाण पाठ, बजरंग बाण लिरिक्स, बजरंग बाण लिरिक्स इन हिन्दी, बजरंग बाण लिरिक्स इन हिंदी पीडीएफ

#1 भगवान हनुमान जी का बजरंग बाण पाठ हिंदी में

आज हम भगवान हनुमान जी के चरणों में समर्पित संपूर्ण बजरंग बाण पाठ हिंदी में बजरंग बाण लिरिक्स बोल पीडीऍफ़ सहित यहां हमारे पाठको के लिए इस लेख के माध्यम से साझा कर रहे है।

श्री हनुमान चालीसा हिंदी में पढ़े और पीडीऍफ़ डाउनलोड करे।

संपूर्ण बजरंग बाण पाठ हिंदी में।

श्री बजरंग बाण पाठ में आरम्भ में 2 दोहे और अंत में 2 दोहे है तथा मध्य में हनुमान जी के सौर्य का वर्णन करि 32 चोपाई दी गयी है।

दोहा :
निश्चय प्रेम प्रतीति ते, बिनय करैं सनमान।
तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान॥

चौपाई :
जय हनुमंत संत हितकारी। सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥
जन के काज बिलंब न कीजै। आतुर दौरि महा सुख दीजै॥
जैसे कूदि सिंधु महिपारा। सुरसा बदन पैठि बिस्तारा॥
आगे जाय लंकिनी रोका। मारेहु लात गई सुरलोका॥
जाय बिभीषन को सुख दीन्हा। सीता निरखि परमपद लीन्हा॥
बाग उजारि सिंधु महँ बोरा। अति आतुर जमकातर तोरा॥
अक्षय कुमार मारि संहारा। लूम लपेटि लंक को जारा॥
लाह समान लंक जरि गई। जय जय धुनि सुरपुर नभ भई॥
अब बिलंब केहि कारन स्वामी। कृपा करहु उर अंतरयामी॥
जय जय लखन प्रान के दाता। आतुर ह्वै दुख करहु निपाता॥
जै हनुमान जयति बल-सागर। सुर-समूह-समरथ भट-नागर॥
ॐ हनु हनु हनु हनुमंत हठीले। बैरिहि मारु बज्र की कीले॥
ॐ ह्नीं ह्नीं ह्नीं हनुमंत कपीसा। ॐ हुं हुं हुं हनु अरि उर सीसा॥
जय अंजनि कुमार बलवंता। शंकरसुवन बीर हनुमंता॥
बदन कराल काल-कुल-घालक। राम सहाय सदा प्रतिपालक॥
भूत, प्रेत, पिसाच निसाचर। अगिन बेताल काल मारी मर॥
इन्हें मारु, तोहि सपथ राम की। राखु नाथ मरजाद नाम की॥
सत्य होहु हरि सपथ पाइ कै। राम दूत धरु मारु धाइ कै॥
जय जय जय हनुमंत अगाधा। दुख पावत जन केहि अपराधा॥
पूजा जप तप नेम अचारा। नहिं जानत कछु दास तुम्हारा॥
बन उपबन मग गिरि गृह माहीं। तुम्हरे बल हौं डरपत नाहीं॥
जनकसुता हरि दास कहावौ। ताकी सपथ बिलंब न लावौ॥
जै जै जै धुनि होत अकासा। सुमिरत होय दुसह दुख नासा॥
चरन पकरि, कर जोरि मनावौं। यहि औसर अब केहि गोहरावौं॥
उठु, उठु, चलु, तोहि राम दुहाई। पायँ परौं, कर जोरि मनाई॥
ॐ चं चं चं चं चपल चलंता। ॐ हनु हनु हनु हनु हनुमंता॥
ॐ हं हं हाँक देत कपि चंचल। ॐ सं सं सहमि पराने खल-दल॥
अपने जन को तुरत उबारौ। सुमिरत होय आनंद हमारौ॥
यह बजरंग-बाण जेहि मारै। ताहि कहौ फिरि कवन उबारै॥
पाठ करै बजरंग-बाण की। हनुमत रक्षा करै प्रान की॥
यह बजरंग बाण जो जापैं। तासों भूत-प्रेत सब कापैं॥
धूप देय जो जपै हमेसा। ताके तन नहिं रहै कलेसा॥

दोहा :
उर प्रतीति दृढ़, सरन ह्वै, पाठ करै धरि ध्यान।
बाधा सब हर, करैं सब काम सफल हनुमान॥

भगवान शिव के सुन्दर चित्र और फोटो का विराट समूह, अभी भगवान शिव के फोटो डाउनलोड करे।

मेरे शब्द: मैं आशा करता हूँ, आपको यह लेख पसंद आया होगा। इस लेख को अपने मित्रो और प्रियजनों के साथ साझा कर मुझे प्रोत्साहित करे। आपसे आग्रह है, यदि इस लेख में आपको कोई त्रुटि, कमी या गलती मिले या आप इस लेख में सुधार के लिए कोई सुझाव देना चाहते हो तो इस लेख के अंत में कमेंट में लिखे। मेरे ब्लॉग पर आने और इस लेख को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

अस्वीकरण Disclaimer: इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों और इंटरनेट पर उपलब्ध जानकारी से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य केवल सूचना पहुंचाना है। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। अधिक जानकारी के लिए आप हमारा अस्वीकरण Disclaimer पढ़े और अपने सुझाव हमें संपर्क Contact पर लिखे।